Facts and figures

चित्रकूट नगर में स्थित जंगल लगभग 70 एकड़ के क्षेत्र में फैला हुआ है। समुदाय के लोगों और स्वयंसेवकों लगन से यहाँ पर 17500 पौधों लगाए गए है। जंगल में काम करने वाली लेबर और स्वयंसेवक इनका रखरखाव कर रहे है। जंगल में 42 पादप प्रजातियों को रोपित किया गया है जबकि यहाँ पहले से ही 109 पादप प्रजातियों ने अपनी धाक जमा रखी है। इस से प्रभावित होकर धरोहर द्वारा 10 लाख वृक्ष कार्यक्रम चलाया गया। 

१० लाख वृक्ष प्रोग्राम का पहला चरण समाप्त हो चूका है, बीते हुए साल में सबने परेशानियों का सामना किया है लेकिन इसके होते हुए भी लोगों में पर्यावरण के प्रति जागरूकता को बनाये रखा। जब धरा महामारी से झुझ रही थी, उदयपुर के लोगों उत्साह दिखाते हुए 54327 पौधों का रोपण किया। 

इतने पौधों को लगाना और उनका रखरखाव करना कोई आसान काम नहीं था लेकिन उदयपुर में रहने वाले अलग अलग समुदाय, शिक्षण संस्थान, राजकीय संस्थान और व्यक्तिगत तौर पर लोगों ने पौधों को लगाने का ही नहीं उन्हें वृक्ष में बदलने तक रखरखाव करने का जिम्मा उठाया। ऐसा नहीं है कि इस काम को करने में उन्हें कोई परेशानी नहीं हुई, लेकिन उनके अंदर के जज्बे और एक दूसरे का सहयोग करने के भाव ने इस चुनौतीपूर्ण काम को बड़ी सरलता पूरा किया। 

वहीं दूसरी ओर, हमारे स्वयंसेवक कहाँ अपनी पर्यावरण के प्रति जिम्मेदारी से पीछे हटने वाले थे। उन्होंने जंगल में 5546 पौधों का रोपण किया।

190719_025_Jungle
thumbnail_PukhrajR20170926-077