Ekyabhav

Do we wait for a next time or do we, as a community, learn to solve our problems together?

10 lakh vriksh – the name might be bit of a mouthful but it carries a simple message. Udaipur is a home to all of us. If only some members take care of it and others do not, it will be hard to run this home for long.

Planting and nurturing 10 lakh trees all over Udaipur are a major part of this project but it’s not limited to that. If we all can come together and achieve this huge task, we can handle any problem in the future, together.

Swadeshi movement, Satyagraha – what do all these movements have in common? What was the secret behind the success of them? You guessed right – community. Why did these movements happen? Because people realised, they had to take responsibility for the change they wanted to see. Taking responsibility for change enabled them to drive change. The trust built within the movement allowed tough decisions to be taken and to be upheld. This built a community with ekyabhav (one feeling).

Life is unpredictable and when it hits, it hits hard – COVID -19 is the freshest example of that. No one was ready for it, but we have had to learn to live with it. A part of that learning was how to work together as a community. We couldn’t have survived the way we have without trusting each other, helping each other and being responsible for each other.

This wasn’t the first time and it definitely isn’t the last. So, the question is – Do we wait for a next time or do we, as a community, learn to solve our problems together?

Life Long Learning

“It is our job to make our city. A plan for the people of Udaipur, by the people of Udaipur”

We all want a city full of greenery and clean air, with places to play, have fun. In Udaipur we have always believed that it is our job to make our city. Time and time again people, young and old, have come together to reinforce the work being done by the government. This has given us the courage to start 10 lakh vriksh (1 million trees). We hope to come together with others in the city, create and use green spaces that are available to have fun. To come together to take action to make the area where we live better. To share thoughts, ideas, knowledge with one another. 10 lakhvriksh programme (someone said it is more like an ‘aahvaan’ or to invoke something bigger than a person or group) is a plan for the people of Udaipur, by the people of Udaipur. Its foundations are volunteering, life-long learning and building connections. Through this initiative we want the community to plant and nurture 10 lakh trees (1 million trees) in and around Udaipur. This will give us green cover. More importantly, we hope that through planting people will come together to learn from one another. This, in turn, will make us a resilient community. 

Peoples project

“लोगों के लिये, लोगों के द्वारा”

10 लाख वृक्ष सुनते ही आपको कब, कैसे, कहाँ और क्यों जैसे प्रश्नों का सामना करना पड़ा होगा। प्रश्नों का घेरा हो भी क्यों नहीं,ये नया जो हैं सबके लिए।
आपके मन में चल रहे सवालों के उत्त्तर हम शायद दे सकते है क्योंकि इन्ही प्रश्नों ने हमें भी घेर रखा था, चलिये आपको बताते हैं, इसके बारे में। 10 लाख वृक्ष कार्यक्रम के विचार को जनवरी, 2020 में रूपांतरित किया गया।
इसका उद्देश्य उदयपुर और उसके आसपास के क्षेत्रों में 5 वर्ष में 10 लाख पौधे लगाने का हैं। इस उद्देश्य में एक बड़ा और दिलचस्प उद्देश्य छिपा हैं। यह एक ऐसा कार्यक्रम हैं, जो ‘लोगों के लिये,लोगों के द्वारा’ अवधारणा पर आधारित पर है। इस कार्यक्रम का बड़ा और दिलचस्प उद्देश्य हमारे द्वारा एक ऐसे मजबूत समुदाय का सृजन करना हैं,जिसमें लोग एकजुट होकर एक दूसरे की मदद करें। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिये 10 लाख वृक्ष कार्यरत हैं।

Volunteering

यह कहते हैं कि कोई भी अभियान तभी सफल होता हैं, जब समुदाय की उसमें भागीदारिता होती हैं।

चलिये उदयपुर के कुछ सामुदायिक अभियान की बात करते हैं –जहाँ जलकुंभीहटाने जैसा अभियान शुरू किया गया था
और साथ ही गुलाब बाग़ की सुरक्षा के लिये समुदाय के सदस्यों ने ही पहल की थी। इस तरह कई उदाहरण मिल सकते है।

जड़ो को जोड़ना – यही अभियान या आन्दोलन का मुख्य चरण होता हैं। 

10 लाख वृक्ष कार्यक्रम में समुदाय सबसे महत्वपूर्ण जड़ हैं,
 जिसके आधार पर हम कार्यक्रम को ऊंचाइयों तक पंहुचा सकते हैं।कार्यक्रम लोगों को एक मंच प्रदान करता हैं, जिससे लोग आपस में जुड़ सके और कार्यक्रम से भी जुड़ कर उसको आगे पहुंचाने में अपना योगदान दें।

समुदाय द्वारा स्वेच्छा से किये गए कार्य कई आकार और रूप ले सकते हैं। हमारी कम्पनियाँ वृक्षारोपण अभियान चला सकती हैं जिसमें हम भाग ले सकते हैं

वैकल्पिक रूप से, हम अपनी कॉलोनी के निवासियों के साथ स्थानीय पार्कों और आस पास की हरियाली को बनाए रखने के लिए काम करना चुन सकते हैं। हमारी कॉलोनियों में सड़क के किनारे पेड़ लगाकर, राहगीरों और पार्क किए गए वाहनों को छाया प्रदान की जा सकती हैं।

बच्चे अपने स्कूलों में वृक्षों का रोपण व देखभाल करके भी भाग ले सकते हैं। इतना ही नहीं, वे अपने परिवारों को भी उनके साथ पौधे लगाने के लिए प्रेरित कर सकते हैं।