Birds in Jungle

Birds in Jungle

Accipiter Badius (शिकरा) – शिकारा जंगलों, खेतों और शहरी क्षेत्रों सहित कई निवास स्थानों में पाया जाता है। उन्हें आमतौर पर अकेले या जोड़े में देखा जाता है। इसका आकार 26-30 सेमी लम्बा होता है। जंगल में यह प्रजाति परिस्थितिकी सामंजस्य बनाती है। यह मुख्य रूप से गिलहरी, मेंढक, कीड़े या पतंगें और छोटे साँपों को खा कर अपना पेट भरता है।

Vanellus Indicus (टिटहरी) – यह जंगल में देखी जाने वाली एक सामान्य प्रजाति है, जो अधिकांशतह जंगल के नर्सरी क्षेत्र में रहती है। यह आमतौर जोड़े में देखा जाता है। नर के पंख मादा की अपेक्षा बड़े होते है। यह में मुख्य रूप से छोटे कीड़े मकोड़ों को खाकर भोजन प्राप्त करती है।

Halcyon Smyrnensis (सफेद गले वाला किलकिला) – यह जंगल में रहने वाला मुखर पक्षी है, जो अपने तेजी से हँसने की ध्वनि समान गायन के लिए प्रसिद्ध है। सम्भोग के दौरान नर पक्षी जोर जोर से आवाज निकल कर आने प्रतिद्वंदी को डरता है। यह माँसाहारी पक्षी है। यह जंगल में पेड़ पौधों को नुकसान पहुंचाने वाले कीड़ों को खाकर परिस्थितिकी सामंजस्य स्थापित करता है।

Dicrurus Macrocercus (भुजंगा) – जंगल में रहने वाला यह पक्षी चमकदार काले रंग का होता है, जिसकी पूंछ एक विस्तृत कांटेदार होती है। इसका पसंदीदा भोजन मधुमक्खी है। इसके अलावा यह छोटे कीड़ों को खाकर जंगल में कीट नियंत्रण का काम भी करती है।

Ploceus Philippinus (बया) – जंगल में रहने वाला यह पक्षी अपनी घर की रचना की कलाकारी से सब लोगों के आकर्षित करता है। यदि आप बारिश के मौसम में जंगल आये हैं, इसे देखने के लिए आप को ज्यादा दूर नहीं जाना पड़ेगा। जंगल में स्थित टैंट वाले क्षेत्र में आप को किसी ना किसी पेड़ पर इसके द्वारा बनाये सुंदर व आकर्षक घर/घोंसले दिखाई दे जायेगे।

Birds in Jungle

Accipiter Badius (शिकरा) – शिकारा जंगलों, खेतों और शहरी क्षेत्रों सहित कई निवास स्थानों में पाया जाता है। उन्हें आमतौर पर अकेले या जोड़े में देखा जाता है। इसका आकार 26-30 सेमी लम्बा होता है। जंगल में यह प्रजाति परिस्थितिकी सामंजस्य बनाती है। यह मुख्य रूप से गिलहरी, मेंढक, कीड़े या पतंगें और छोटे साँपों को खा कर अपना पेट भरता है।

Vanellus Indicus (टिटहरी) – यह जंगल में देखी जाने वाली एक सामान्य प्रजाति है, जो अधिकांशतह जंगल के नर्सरी क्षेत्र में रहती है। यह आमतौर जोड़े में देखा जाता है। नर के पंख मादा की अपेक्षा बड़े होते है। यह में मुख्य रूप से छोटे कीड़े मकोड़ों को खाकर भोजन प्राप्त करती है।

Halcyon Smyrnensis (सफेद गले वाला किलकिला) – यह जंगल में रहने वाला मुखर पक्षी है, जो अपने तेजी से हँसने की ध्वनि समान गायन के लिए प्रसिद्ध है। सम्भोग के दौरान नर पक्षी जोर जोर से आवाज निकल कर आने प्रतिद्वंदी को डरता है। यह माँसाहारी पक्षी है। यह जंगल में पेड़ पौधों को नुकसान पहुंचाने वाले कीड़ों को खाकर परिस्थितिकी सामंजस्य स्थापित करता है।

Dicrurus Macrocercus (भुजंगा) – जंगल में रहने वाला यह पक्षी चमकदार काले रंग का होता है, जिसकी पूंछ एक विस्तृत कांटेदार होती है। इसका पसंदीदा भोजन मधुमक्खी है। इसके अलावा यह छोटे कीड़ों को खाकर जंगल में कीट नियंत्रण का काम भी करती है।

Ploceus Philippinus (बया) – जंगल में रहने वाला यह पक्षी अपनी घर की रचना की कलाकारी से सब लोगों के आकर्षित करता है। यदि आप बारिश के मौसम में जंगल आये हैं, इसे देखने के लिए आप को ज्यादा दूर नहीं जाना पड़ेगा। जंगल में स्थित टैंट वाले क्षेत्र में आप को किसी ना किसी पेड़ पर इसके द्वारा बनाये सुंदर व आकर्षक घर/घोंसले दिखाई दे जायेगे।